“मनोविकारक युग”


ऐसा लग रहा है देश कशी का घाट बना हुआ है
कही कोई जन्म की बधाई लेके गंगा स्नान करने आया है
तो कही कोई पिता अपने सफल से असफल हुए पुत्र के मृत्यु को अग्नि देने आया है.
कही कोई विवाहित / विवाहिता अपने जीवन के नई शुरुआत का आचल भने आया है
तो कही कोई अपने साथी के अलग होने के वियोग में कुछ उतारें और छोड़ने आया है
सब एक साथ – सुख-दुःख,  जहा अद्भुत है वही वीभत्स भी है
जहा उत्साह  है तो वही  है निराशा चरम पे है
इतना सब एक साथ घटित हो रहा है की समझ में नहीं आरहा
उल्लास मनाये या क्रंदन करे.
निश्चय ही कुल मिलाकर बहुत ही “मनोविकारक युग” चल रहा है.
#Hima Das# Unnav #Chandrayan #Nirav Modi #Beti Bachao Beti Padao #Jivanu, Jaipur #Startup # failures #entrepreneur #CDD 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिल तो बच्चा है जी!!!!!

"चुस्की ले तो मनवा फेंटास्टिक हो जाये "

तेरी प्रभुताई तो तभी जचती है जब तू भी मुझे अपने दिल में रखता !!!!!